Follow by Email

Home » , , , » श्राद्ध Shraadh in India

श्राद्ध Shraadh in India

Written By Uttaranchal hills on Wednesday, January 13, 2016 | 10:46 PM

श्राद्ध के बारे में जाने


श्राद्ध Shraddh


श्राद्ध में तर्पण प्रदर्शन, हमारे पूर्वजों का सम्मान करने का एक तरीका है। यह लोगों को अपने माता-पिता और पूर्वजों के प्रति हार्दिक कृतज्ञता और धन्यवाद व्यक्त करने के लिए एक रास्ता है| श्राद्ध यह बताने का एक तरीका है। कि वे अभी भी परिवार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और वे अभी भी हमारी यादों में रहते हैं| यदि Shraddh में तर्पण की रस्में प्रदर्शन नहीं करते है, तो पितृ दोष उत्पन्न होती है। श्राद्ध पितृ पक्ष के रूप में भी जाना जाता है।
Shraddh

हिंदू धर्म में, यह एक 'पूर्वजों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के अनुष्ठान है, कि हर साल, 16 दिन की महत्वपूर्ण अवधि पूर्वजों या पितरों को समर्पित है। पितृ पक्ष तर्पण अनुष्ठान के लिए एकदम सही माना जाता है। श्राद्ध सही शरद ऋतु में नवरात्रि से पहले होता है।यह पितृ पक्ष या Shraadh पक्ष के दौरान पुण्यतिथि पर किया जाता है”.

कौवा को भी खाना खिलाया जाता है|
http://uttaranchalhills.blogspot.com/2016/01/shraadh-in-india.html

श्रद्धा में एक ऐसी रस्म जिसमें कौवे के लिए भोजन पेश किया जाता है| माना जाता है कि यह कौवे 'त्रेता युग' के बाद से हमारे पूर्वजों से संबंधित किए जा रहे हैं। ऐसी धारणा है, कि श्राद्ध में कौए को पहला भोग चढ़ता है| माना जाता है कि कौए के रूप में हमारे पूर्वज ही भोजन करते हैं इसलिए कौओं को आमंत्रित कर उन्हें श्राद्ध का पहला भोग खिलाया जाता है
श्राद्ध पक्ष से जुड़ी कई परंपराएं हमारे समाज में प्रचलित है मान्यता है कि हिन्दू पुराणों में कौए को देवपुत्र माना गया है , इन्द्र के पुत्र जयंत ने ही सबसे पहले कौए का रूप धारण किया था पौराणिक कथा के अनुसार त्रेता युग में जब
भगवान श्रीराम ने अवतार लिया और जयंत ने कौऐ का रूप धर कर माता सीता को घायल कर दिया था, तब भगवान
श्रीराम ने गुस्से में तिनके से ब्रह्मास्त्र चलाकर जयंत की आंख फोड़ दी थी जब उसने अपने किए की माफी मांगी तब राम ने उसे यह वरदान दिया की कि तुम्हें अर्पित किया गया भोजन पितरों को मिलेगा तभी से श्राद्ध में कौओं को भोजन कराने की परंपरा चली रही है और यही कारण है कि श्राद्ध पक्ष में कौओं को ही पहले भोजन कराया जाता है कौए को भोजन कराने से सभी तरह का पितृ और कालसर्प दोष दूर हो जाता है
इसके अलावा एक कारण यह भी हैं, कौवा शनिदेव के वाहन है और विशेष रूप से शनि दोष या शनि दशा या Ashtam शनि के दोष से सुरक्षित रखने के लिए कौवे के लिए भोजन पेश किया जाता है| हम अपने पापों की माफी और उनके आशीर्वाद के लिए, कौवे भोजन को प्रदान करते हैं।



श्राद्ध की रस्में

पितृ पक्ष श्राद्ध के दौरान की गई हैं, जो कुछ रस्में हैं।
Shraadh के समय के दौरान, हम उनकी (अपने पूर्वजों) आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।
माना जाता है कि यह पुरुष सदस्य के द्वारा किया जाना चाहिए यह या तो दिवंगत आत्मा के ज्येष्ठ पुत्र या परिवार के मुखिया हो सकता है। तर्पण के अनुष्ठान के बाद, ब्राह्मणों को घर पकाया भोजन, नए कपड़े, विशेष मिठाई और दक्षिणा (पैसा) की भेंट देते हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं में एक धारणा है कि यह ब्राह्मण भोज पूर्वजों तक पहुंचता है

sharaadh ritual

0 comments :

Post a Comment

Powered by Blogger.

Total Pageviews

Translate

*विवरण विभिन्न संसाधनों से एकत्र किया गया हैं।This is only for info purpose. All info are collect by other sources like internet, books etc.